Thursday, January 6, 2011

यार हवा

यार हवा
चुप रहो
मत बोलो इतने ज़ोर-ज़ोर से
ठंड की भाषा।
चुप रहो
उसी तरह
जिस तरह
ये ऊँचे-ऊँचे पेड़ चुप हैं
तुम्हारे ये थपेड़े खाकर भी,
मत बोलो उसी तरह
जिस तरह
ये हरा-भरा मैदान कुछ नहीं कहता
अपनी घास को सफेद बर्फ में बदलते देखकर भी,
चुप रहो
जिस तरह
खिड़की के कोने में बैठी
वह बिल्ली चुप है
अपने-आप को परदे के पीछे छुपाकर,
जैसे
ये सड़क चुप है
अपने ऊपर बर्फ का बोझ सहते हुए भी,
उसी तरह
जिस तरह
बाबा के आगे जलते
अलाव की आग कुछ नहीं कहती,
वैसे ही जैसे
भूरा ओवरकोट पहने
मेरी पड़ोसन चुप है।
चुप रहो; क्योंकि
तुम्हारी यह भाषा बहुत ठंडी है
जो हमारे भीतर की गरमी सोख लेती है,
मत बोलो; क्योंकि
तुम्हारी यह तेज़ आवाज़
हमारी कई आवाज़ों को लील जाती है।
और इसीलिए
इन सब की तरह तुम भी
कुछ मत बोलो
चुप रहो,
यार हवा।

21 comments:

  1. सुंदर रचना
    इस बार मेरे ब्लॉग पर
    " मैं "

    ReplyDelete
  2. हवा को तो अभी चुप करा लोगे .. पर क्या होगा जो वो गर्मी में भी चुप हो जायेगी ...
    या अगर सदा के लिए चली गयी तो क्या होगा ...

    ReplyDelete
  3. @दिगम्बर नासवा जी....इतनी बात तो नहीं मानेगी मेरी, देखिए न आज ही इतने ज़ोर-ज़ोर से फिर चल पड़ी है:)

    ReplyDelete
  4. बस इतना ही कहूंगा कि कविता कहने का आपका अंदाज बेहद आकर्षक है। आपकी रचना पाठक को आकर्षित करती और अंत तक बांधे रखती है। और यह किसी कवि के लिए बडी बात है।

    ---------
    पति को वश में करने का उपाय।
    मासिक धर्म और उससे जुड़ी अवधारणाएं।

    ReplyDelete
  5. is hawa ne aapko chup nahi rakha.. aur yeh kavita padhke kuchh aur logon ki chuppi tutegi.. badi hi pyari kavita hain.. likhte rahiye..

    ReplyDelete
  6. @ज़ाकिर जी, आयुश जी...उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  7. क्या कहे जी....

    जब सभी चुप किये जा रहे है तो हम क्या बोले...

    चलो टिप्पणी फिर कभी कर देंगे...आज चुप सही...

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  8. बहुत ही प्रभावशाली रचना
    उत्कृष्ट लेखन का नमूना
    लेखन के आकाश में आपकी एक अनोखी पहचान है ..

    ReplyDelete
  9. ख़ामोशी की भी इक जुबान होती है .चुप भी बोलती है धीरे धीरे.
    बहुत सुंदर कविता है.शुभ कामनाएं .

    ReplyDelete
  10. ठंडी हवा से बातें करने का आपका ये अंदाज़ बहुत दिलकश लगा...बेहद खूबसूरत रचना है आपकी..बधाई...

    नीरज

    ReplyDelete
  11. "तुम्हारी यह तेज़ आवाज़
    हमारी कई आवाज़ों को लील जाती है।
    और इसीलिए
    इन सब की तरह तुम भी
    कुछ मत बोलो
    चुप रहो,
    यार हवा"

    मनमोहक ब्लॉग तथा निराले अंदाज में बहुत सुंदर रचना - हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  12. बहुत ही प्रभावशाली रचना| बधाई|

    ReplyDelete
  13. सर्द हवा से बातें करना
    और
    उन बातों को काव्य में हम सब तक पहुंचाना ...
    अच्छा लगा !!

    ReplyDelete
  14. Aapki rachna bahut prabhavshali hai ...kei dino se aapke blog tak nahi pahunch saka tha ....kisi karan vash main hindi main tippni nahi kar paa raha hoon aasha hai aap....ise bhi svikar karenge ...apna lekhan anvarat rup se jaari rakhen ...shubhkamnaon sahit ...kewal ram

    ReplyDelete
  15. प्रज्ञा जी अच्छी अभिब्यक्ति
    सुन्दर लगी आप की कविता
    बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. इस ब्लाग पर आते ही कुछ अलग सा महसूस हुआ ! लगता है अपनी छाप आसानी से छोड़ने में सफल रहोगी ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा आपने हवा से इस ठंड में इल्तजा की है ! तस्वीर में बैठा पंछी कविता को और भी सुन्दर किए दे रहा है ! आप को फ़ोलो कर लिया जाए ! मरे ब्लोग पर भी आएं !

    ReplyDelete
  18. आप सभी की तहे दिल से आभारी हूँ , आपके प्रोत्साहन का शुक्रिया अदा करते हुए यही आशा करती हूँ कि आप सभी इस ब्लॉग से अपना प्रेम यूँ ही बनाए रखेंगे..

    ReplyDelete